Wednesday, March 5, 2008

चाचा की 'राज' नीति

राज ठाकरे के उत्तर भारतीय विरोधी बयान को आज बाल ठाकरे ने घी डाल दिया। समय-समय पर हिंदुत्व का नारा बुलंद करने वाले बाल ठाकरे ने बिहारियों के विरोध में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने एक SMS का जिक्र करते हुए कहा ...

एक बिहारी , सौ बीमारी ।
दो बिहारी , लड़ाई की तैयारी ।।
तीन बिहारी , ट्रेन हमारी ।
पांच बिहारी , सरकार हमारी ।।

मेरा मानना है, कि मराठी वोट बैंक हाथ से निकलता देखकर बाल ठाकरे तिलमिलाए हुए हैं और इसलिए राज ठाकरे से बढ़-चढ़कर भड़काऊ बातें कह रहे।

4 comments:

Anonymous said...

क्या बात है विनीत जी,

शुरूआत मे ही ऐसा धमाके वाला SMS! बेटे उध्दव पर भतीजा राज हावी होता दिखा। तो बाल ठाकरे भी बिहारियों के खिलाफ मैदान में उतर आए। शुरू में उध्दव ने बिहारियों का बचाव किया। पर मराठी राज के साथ जाने लगे। तो बाल ठाकरे ने कमान संभाली। अधिक जानकारी के लिये यहाँ देखें!

Anonymous said...

प्रिय विनीत जी. आपकी इस पहल से लोगो को प्रेरणा ही नही सीख भी मिलेगी..लगे रहो......

Anonymous said...

See Here

रवीन्द्र प्रभात said...

राजनीति में मर्यादाएं विलुप्त होती जा रही है , सुन भाई चाचा ! अरे हाँ भतीजा !! वैसे आपके विचार सुंदर है !